बिगड़े शनि देव को ये रत्न कर सकता है प्रसन्न

1. एमेथिस्‍ट धारण करने से होगी शनि की असीम कृपा

शनि देव न्‍याय के देवता है और न्‍याय करते समय वह किसी भी प्रकार की नरमी नहीं बरतते। शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या के समय तो मनुष्‍य को विशेष रूप से कष्‍टों का सामना करना पड़ता है। ऐसी स्थिति से आपको बचा सकता है कठेला यानि एमेथिस्‍ट रत्‍न। कठेला (Amethyst) नीलम का उपरत्‍न है और नीलम की ही तरह ये रत्‍न भी शनि देव के शुभ प्रभाव को प्राप्‍त करने में मदद करता है। जो भी व्‍यक्‍ति एमेथिस्‍ट धारण कर ले उसे शनि देव की असीम कृपा की प्राप्‍ति होती है।

अभी आर्डर करने के लिए क्लिक करे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here