मंगल का शक्तिशाली रत्न मूंगा पहनने से पहले न करें ये भूल

Moonga-Ratna

मंगल का रत्‍न

मंगल का रत्‍न मूंगा को ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है। कहते हैं कि मंगल के इस चमत्‍कारिक रत्‍न को धारण करने से आत्‍मविश्‍वास साहस और में वृद्धि होती है। मूंगा आत्‍मविश्‍वास तो बढ़ाता है लेकिन ये रत्‍न हर किसी को सूट नहीं करता। मूंगा रत्‍न पहनना कभी-कभी किसी को बहुत भारी भी पड़ जाता है।

जन्‍मकुंडली का महत्‍व

यदि कोई अपनी जन्‍मकुंडली दिखाए बिना मूंगा रत्‍न धारण कर ले तो उस व्‍यक्‍ति की दुर्घटना की संभावना भी रहती है। स्‍त्रियों की कुंडली में मंगल आठवें भाव में नीच शत्रु राशिस्‍थ हो या शनि से इष्‍ट हो या शनि-मंगल के साथ हो तो जीवन को बहुत नुकसान होता है। ये योग किसी स्‍त्री को विधवा भी बना सकता है।

(4 Ratti) मूंगा रत्न आर्डर करने के लिए >> क्लिक करे >>

इस घर में बैठा मंगल

mangal-bhav-ka-hona

यदि सातवें भाव में मंगल या लग्‍न भाव में मंगल हो तो ये योग भी कभी-कभी हानिकारक हो सकता है। चौथे घर में बैठा मंगल पारिवारिक जीवन का बरबाद कर देता है। किसी स्‍त्री की कुंडली में दूसरे भाव में मंगल का होना सौभाग्‍य का सूचक है।

भाई को देता है नुकसान

द्रेष्‍काध मातृ सौख्‍यम में शनि और मंगल का दृष्टि संबंध हो तो उस व्‍यक्‍ति के भाई को नुकसान होता है। ऐसी स्थिति में कोई भी जातक मूंगा रत्‍न न पहनें। बल्कि जिस भाव में मंगल हो उस भाव के स्‍वामी की स्‍थिति लग्‍न में शुभ हो उसका रत्‍न पहनना चाहिए।

(3.50 Ratti) मूंगा रत्न आर्डर करने के लिए >> क्लिक करे >>

ये कर सकते हैं धारण

मंगल भूमि, घर, भवन निर्माण और पुलिस, सेना, प्रशासन का कारक होता है। इसलिए इन क्षेत्रों में कार्य कर रहे लोग मूंगा रत्‍न धारण कर सकते हैं लेकिन कोई भी रत्‍न धारण करने से पहले किसी अनुभवी ज्‍योतिषी से सलाह अवश्‍य ले लें।

न करें ये भूल

moonga-ratna-dhaaran-kerne-se-pehle-na-karein-ye-bhul

मंगल रत्‍न बहुत शक्‍तिशाली होता है और इस रत्‍न कोई भी कैसे भी धारण नहीं कर सकता है। कुंडली के विशेष योगों का निर्माण होने पर ही मूंगा रत्‍न पहनने की सलाह दी जाती है। आप भी मूंगा रत्‍न को कोई मामूली रत्‍न न समझें वरना ये आपका जीवन बरबाद कर सकता है।

(8 Ratti) मूंगा रत्न आर्डर करने के लिए >> क्लिक करे >>

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here