केतु का लहसुनिया रत्न पहनने से पहले ध्यान रखें ये बातें

lehsunia stone

छाया ग्रह केतु का रत्‍न अत्‍यंत प्रभावशाली होता है। केतु के शुभ प्रभाव पाने हेतु लहसुनिया रत्‍न धारण करने की सलाह दी जाती है लेकिन साथ ही लहसुनिया रत्‍न को धारण करने से पहले कुछ बातों का विशेष ध्‍यान रखना चाहिए।

–  किसी अनुभवी ज्‍योतिषाचार्य से सलाह लेने के बाद ही राहु और केतु का रत्‍न धारण करना चाहिए वरना आपको फायदे की जगह नुकसान भी हो सकता है।

– लहसुनिया रत्‍न को कम से कम 7 कैरेट यानि 14;; मिलीग्राम का जरूर धारण करना चाहिए।

– लहुसनिया रत्‍न को मध्‍यमा और रिंग फिंगर में पहनना चाहिए। तभी इसका पूरा फल प्राप्‍त होता है।

– धारण करने पर यह रत्‍न आपकी अंगुली की त्‍वचा से जरूर स्‍पर्श करना चाहिए।

लहुसनिया रत्‍न धारण करने से पहले इसे 10 मिनट के लिए गंगाजल और गाय के दूध में डुबोकर रखना चाहिए।

– सूर्योदय के समय शुक्‍ल पक्ष के दौरान मंगलवार के दिन लहसुनिया रत्‍न धारण करना शुभ रहता है।

– लहुसनिया रत्‍न धारण करने से पूर्व 108 बार ‘ऊं केतवे नम:’ मंत्र का जाप करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here